शुक्रवार, अक्तूबर 14, 2011

बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है...

ये अनशन , ये सिविल सोसायटी की दुनियाँ
ये निजहित के जनहित याचिकाओं की दुनियाँ
ये विदेशों के रंगीन डालर की दुनियाँ
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है 

हर एक जिस्म फर्जी , हर एक जेब प्यासी
निगाहों से शातिर , दिलों में मक्कारी
बिना इनके कैसे हो अपनी ऐय्याशी
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है 

भारत खिलौना है,आजादी कचरा
हर आदमीं यहाँ पर बलि का है बकरा
ना हो जीवन से गर मौत भी सस्ती
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है 

नेता भटकते हैं वोटों का चक्कर
जवाँ जिस्म सजते हैं टी वी पर अक्सर
यहाँ मीडिया बिकता है व्यापार बनकर
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है 

ये दुनियाँ जहाँ बाबा भी करते खेती
अगर गन्ना ना हो तो शक्कर ना होती
बस कुछ दिन किसी को भूखे रखवाओ  
फिर मीडीया के जरिये खेला दिखाओ
और सत्ता नशीनों की बत्ती बुझाओ
हमेशा के लिए खुद ही मसीहा हो जाओ
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है 

जला दो मोमबत्ती, फूंक डालो ये बस्ती
मेरे मामले में लगा दो मोर्चा औ तख्ती
कहाँ हो ऐ बुकरी कहाँ हो ऐ तीस्ता
कहाँ हो ऐ मानवाधिकारी फरिश्ता
जरा तुम  भी आओ  मेरे लिए भी गाओ
मिलता है डॉलर तो चीखो चिल्लाओ
पड़े चाहें जूते या लात खायें
अगर काश्मीर पर ना कोई राग गायें
विदेशों से चंदे भला कैसे पायें
अगर तुमने ना छिना अधिकार मानवों का
तो किस बात के तुम हो मानवाधिकारी
कहीं बंद ना हो जाय अपनी दुकानदारी
बिना डालरों के बिना एवार्ड और चंदे 
बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है



बिना इनके दुनियाँ मिल भी जाए तो क्या है..............

5 टिप्‍पणियां:

  1. ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या हो

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया |
    बधाई ||
    http://dineshkidillagi.blogspot.com/

    बुद्धिजीवी का बड़ा, रोचक है अन्दाज |
    जिभ्या ही करती रहे, राज काज आवाज ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. ghun laga gaya dane dane, sichti hoon diwali ki safayi ker di jaye,
    lekin derti hoon ki kahin sara ghar hi na saaf ho jaye !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुलाल वाले ने देखा तो रोयल्टी मांग लेगा आपसे , ...../. वैसे , (सुपर लाईक का हिंदी जो भी हो )

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप का लेखन अतिउत्तम है और परिस्थितियों पर कटाक्ष शानदार........

    उत्तर देंहटाएं